Sunday, December 10, 2017

जीडीपी और जीवीए क्या एक हैं?

पिछले कुछ वर्षों से आर्थिक विकास की दर के आकलन के लिए ग्रॉस वैल्यू एडेड (जीवीए) का इस्तेमाल होने लगा है. साधारण शब्दों में कहा जाए तो जीवीए से किसी अर्थ-व्यवस्था के किसी खास अवधि में सकल आउटपुट और उससे होने वाली आय का पता लगता है. यानी इनपुट लागत और कच्चे माल का दाम निकालने के बाद कितने के सामान और सर्विसेज का उत्पादन हुआ. मोटे तौर पर जीडीपी में सब्सिडी और टैक्स निकालने के बाद जो आंकड़ा मिलता है, वह जीवीए होता है. 

जीडीपी से आर्थिक उत्पादन की जानकारी मिलती है. यानी कि इसमें निजी खपत, अर्थव्यवस्था में सकल निवेश, सरकारी निवेश, सरकारी खर्च और शुद्ध विदेशी व्यापार (निर्यात और आयात का फर्क) शामिल होता है. जीवीए से उत्पादक यानी सप्लाई साइड से होने वाली आर्थिक गतिविधियों का पता चलता है जबकि जीडीपी में डिमांड या उपभोक्ता की नजर से तस्वीर नजर आती है. जरूरी नहीं कि दोनों ही आंकड़े एक से हों क्योंकि इन दोनों में नेट टैक्स के ट्रीटमेंट का फर्क होता है. 

उपादान लागत या स्थायी लागत (फैक्टर कॉस्ट) के आधार पर जीडीपी का मतलब होता है कि औद्योगिक गतविधि में-वेतन, मुनाफे, किराए और पूँजी-यानी विभिन्न उपादान के मार्फत सकल प्राप्ति. इस लागत के अलावा उत्पादक अपने माल की बिक्री के पहले सम्पत्ति कर, स्टाम्प ड्यूटी और पंजीकरण शुल्क वगैरह भी देता है. जीडीपी में ये सब शामिल होते हैं, जीवीए में नहीं. जीवीए में वह लागत शामिल होती है, जो उत्पाद को बेचने के पहले लगी थी. 

इनमें बेहतर कौन है? 

जीवीए से मिलने वाली सेक्टरवार ग्रोथ से नीति-निर्माताओं को यह फैसला करने में आसानी होगी कि किस सेक्टर को प्रोत्साहन की जरूरत है. कुछ लोगों का मानना है कि जीवीए अर्थव्यवस्था की स्थिति जानने का सबसे सही तरीका है क्योंकि सिर्फ ज्यादा टैक्स कलेक्शन होने से यह मान लेना सही नहीं होगा कि उत्पादन में तेज बढ़ोतरी हुई है. ऐसा बेहतर कंप्लायंस या ज्यादा कवरेज की वजह से भी हो सकता है और इससे असल उत्पादन की गलत तस्वीर मिलती है. 

जीवीए से हर सेक्टर के उत्पादन आँकड़ों की अलग तस्वीर मिलती है. यह अर्थ-व्यवस्था की बेहतर तस्वीर बताता है. जीडीपी का आँकड़ा तब अहम साबित होता है जब अपने देश की तुलना दूसरे देश की अर्थव्यवस्था से करनी होती है. इसमें दोनों देशों की आय की तुलना की जाती है. सही तस्वीर जानने के लिए दोनों के विस्तार में जाना चाहिए. 

10 दिसम्बर को मानवाधिकार दिवस क्यों मनाते हैं?

दूसरे विश्व युद्ध की विभीषिका ने दुनियाभर को झुलसा डाला था. युद्ध खत्म होने के बाद दुनिया ने मानवाधिकारों के बारे में सोचना शुरू किया. 10 दिसम्बर, 1948 को ‘संयुक्त राष्ट्र महासभा’ ने सार्वभौमिक मानवाधिकार घोषणा पत्र जारी कर पहली बार मानवाधिकार व मानव की बुनियादी मुक्ति की घोषणा की थी. इसके बाद सन 1950 में संयुक्त राष्ट्र ने हर साल 10 दिसम्बर को विश्व मानवाधिकार दिवस मनाने का निश्चय किया. किसी भी इंसान की ज़िंदगी, आज़ादी, बराबरी और सम्मान का अधिकार है-मानवाधिकार.

श्रीलंका किन विदेशी शासकों के अधीन रहा?

श्रीलंका में पहले पुर्तगाली आए. उन्होंने 1517 में कोलम्बो के पास अपना दुर्ग बनाया. उस वक्त कैंडी और जाफना पर स्थानीय राजाओं का राज था. 1630 में डच (नीदरलैंड) लोगों ने पुर्तगालियों पर हमला बोला और कुछ इलाके पर अपना राज कायम कर लिया. 1638 में स्थानीय राजा ने पुर्तगालियों से लड़ने के लिए डच ईस्ट इंडिया कम्पनी के साथ एक संधि की. अंततः 1656 में कोलम्बो भी डच अधिकार में आ गया. उधर भारत में प्रवेश कर चुके अंग्रेजों का ध्यान श्रीलंका की तरफ गया. उन्होने डच इलाकों पर अधिकार करना आरंभ कर दिया. 1800 आते-आते तटीय इलाकों पर अंग्रेजों का अधिकार हो गया. सन 1818 में अंतिम राज्य कैंडी के राजा ने भी आत्मसमर्पण कर दिया और सम्पूर्ण श्रीलंका पर अंग्रेजों का अधिकार हो गया. वहाँ भारत की तरह लम्बा स्वतंत्रता संग्राम नहीं चला, पर बीसवीं सदी के शुरू में एक शान्तिपूर्ण राजनीतिक आन्दोलन शुरू हो गया. भारत की आजादी के बाद 4 फरवरी 1948 को श्रीलंका भी आजाद हो गया.
 प्रभात खबर अवसर में प्रकाशित

मुद्रा योजना क्या है?

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना मुद्रा बैंक के तहत एक भारतीय योजना है जिसकी शुरुआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 8 अप्रैल 2015 को नई दिल्ली में की थी. मुद्रा शब्द माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी का संक्षिप्त रूप है. इस योजना के तहत 10 लाख रूपये तक का लोन प्रदान किया जाना है. देश में नए उद्यमियों के रूप में छोटे संगठनों, कम्पनियों और स्टार्ट अप्स की संख्या बढ़ रही है. इन्हें सूक्ष्म इकाई माना जाता है. यह महसूस किया गया है कि इन इकाइयों में वित्तीय समर्थन में कमी है. यदि इन्हें वित्तीय सहायता प्रदान की जाए तो उनका विकास हो सकता है.

मुद्रा बैंक के तहत तीन श्रेणियां है -शिशु ,किशोर और तरुण. शिशु शुरूआती श्रेणी है. वे सभी व्यापार जो अभी– अभी शुरू हुए है और लोन के लिए देख रहे है इस श्रेणी में आते है. इस श्रेणी में 50,000 रूपये तक का लोन दिया जाएगा. इसमें ब्याज दर 10 से 12 % तक की रेंज में है. किशोर श्रेणी उनके लिए है जिन्होंने अपना कारोबार शुरू किया है और अब वह प्रतिष्ठित हो रहा है. इस श्रेणी में आने वाली यूनिट्स के लिए 50,000 रूपये से लेकर 5 लाख रूपये तक का लोन देने का प्रावधान है. ब्याज दर 14 से 17% तक की रेंज में है. तरुण श्रेणी के अंतर्गत सभी छोटे कारोबार जो स्थापित हो कर प्रतिष्ठित हो गए हैं। इन्हें 10 लाख रूपये तक का लोन दिया जा सकता है. ब्याज दर 16 % से शुरू होती है.

धरती कभी धूमकेतु की पूँछ से गुजरे तो क्या होगा?

खास बात यों तो कुछ नहीं होगी. अलबत्ता हमें आकाश में आतिशबाजी का नजारा देखने को जरूर मिलेगा. इसकी वजह धूमकेतु की वह धूल होगी जो धरती के वातावरण से रगड़ खाकर जलेगी. वैसे ही जैसे उल्काओं के टकराने से होता है. धूमकेतुओं को लेकर तमाम तरह की बातें उड़ाई जाती रहीं हैं. मसलन 18 मई 1910 को प्रसिद्ध हेली धूमकेतु को धरती और सूरज के बीच से होकर गुजरना था. उस परिघटना के पहले से अखबारों में खबरें छपने लगीं कि इसकी पूँछ में सायनोजेन नाम की जहरीली गैस होगी. उस गैस से बचाव के लिए औषधि की ईजाद भी कर ली गई और ये गोलियाँ खूब बिकीं. वास्तव में जब धूमकेतु गुजरा तो बहुत से लोगों को नजर भी नहीं आया, क्योंकि सूरज की ओर देखना आसान नहीं होता.

कांटे-चम्मच का आविष्कार कैसे हुआ?

काँटे और चम्मच का इस्तेमाल एक साथ शुरू नहीं हुआ. शुरू में चाकू और काँटे का इस्तेमाल हुआ शिकार के लिए. इंसान ने खाने की शुरुआत हाथ से ही की थी. मांसाहारी समाजों में शूल और त्रिशूल के छोटे रूप फॉर्क की जरूरत गोश्त को थाली में रोकने के लिए हुई. चम्मच का आविष्कार पत्थर युग में हुआ. सीपियों की मदद लेते-लेते इंसान को पत्थर की चम्मच बनाने का विचार आया होगा. बाद में लकड़ी की चम्मचें भी बनीं.

कीड़े-मकोड़े पानी पर बिना डूबे कैसे चलते रहते हैं?



आमतौर पर कीड़ों का वजन इतना कम होता है कि वे पानी के पृष्ठ तनाव या सरफेस टेंशन को तोड़ नहीं पाते. पानी और दूसरे द्रवों का एक गुण है जिसे सरफेस टेंशन कहते हैं. इसी गुण के कारण किसी द्रव की सतह किसी दूसरी सतह की ओर आकर्षित होती है. पानी का पृष्ठ तनाव दूसरे द्रवों के मुकाबले बहुत ज्यादा होता है. इस वजह से बहुत से कीड़े मकोड़े आसानी से इसके ऊपर टिक सकते हैं. इन कीड़ों का वजन पानी के पृष्ठ तनाव को भेद नहीं पाता. सरफेस टेंशन एक काम और करता है. पेन की रिफिल या कोई महीन नली लीजिए और उसे पानी में डुबोएं. आप देखेंगे कि पानी नली में काफी ऊपर तक चढ़ आता है. पेड़ पौधे ज़मीन से पानी इसी तरीके से हासिल करते है. उनकी जड़ों से बहुत पतली पतली नलियां निकलकर तने से होती हुई पत्तियों तक पहुंच जाती हैं. सन 1995 में प्रतिमाओं के दूध पीने की खबर फैली थी. वस्तुतः पृष्ठ तनाव के कारण चम्मच का दूध पत्थर की प्रतिमा में ऊपर चढ़ जाता था. इसे लोगों ने प्रतिमाओं का दूध पीना घोषित कर दिया.

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के जज कैसे नियुक्त होते हैं?

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ)में 15 जज होते हैं, जिनमें से प्रत्येक का कार्यकाल 9 साल का होता है. सदन में निरंतरता बनाए रखने के लिए हरेक तीन साल में एक तिहाई सदस्य नए आते हैं. इसके लिए इनका चुनाव होता है. चुनाव संयुक्त राष्ट्र महासभा और सुरक्षा परिषद मिलकर करती हैं. प्रत्याशी को दोनों सदनों में स्पष्ट बहुमत मिलना चाहिए. कई बार एक बार में पूरा बहुमत नहीं मिलता तो मतदान के कई दौर होते हैं. किसी सदस्य का निधन होने या उनके त्यागपत्र देने के बाद भी सीट खाली होने पर चुनाव होता है. चुनाव न्यूयॉर्क में महासभा का सत्र होने पर होते हैं, जो हर साल शरद में होता है.

इन दिनों पाँच सीटों के लिए चुनाव चल रहा है. चार जजों का चुनाव हो चुका है. पाँचवें स्थान के लिए भारत के दलबीर भंडारी और ब्रिटेन के क्रिस्टोफर ग्रीनवुड के बीच मुकाबला है. ग्यारह दौर के मतदान के बाद भी फैसला नहीं हो पाया है. महासभा में दलबीर भंडारी को बहुमत मिला है और सुरक्षा परिषद में ब्रिटिश प्रत्याशी को. अगले कई दौर तक मतदान चल सकता है. फिर भी फैसला नहीं हुआ तो दोनों सदनों के तीन-तीन प्रतिनिधि बैठकर गतिरोध तोड़ने का प्रयास करेंगे. (इन पंक्तियों के प्रकाशन के बाद ब्रिटेन ने अपने प्रत्याशी का नाम वापस ले लिया और भारतीय प्रतिनिधि दलबीर भंडारी चुन लिए गए).
एनजीटी क्या है?

राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (नेशनल ग्रीन ट्रायब्यूनल)एक विशिष्ट न्यायिक संस्था है जो पर्यावरणीय विवादों के निपटारे के लिए बनाई गई है. संसद से पारित राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण अधिनियम, 2010 के तहत इसकी स्थापना हुई. सन 2010 में स्थापना के बाद से यह न्यायाधिकरण देश के महत्वपूर्ण पर्यावरण-रक्षक के रूप से उभर कर सामने आया है. यह एक नई अवधारणा थी, क्योंकि इसके पहले दुनिया में न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया ने ही पर्यावरण से जुड़े मसलों के लिए विशेष अदालतें बनाईं थीं. इसके हस्तक्षेप के कारण उद्योगों और कॉरपोरेट हाउसों को मिलने वाली त्वरित अनुमतियों पर लगाम लगी है. खनन और प्राकृतिक साधनों के अंधाधुंध दोहन पर रोक लगी है. सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश लोकेश्वर सिंह पंटा इसके पहले अध्यक्ष थे और 20 दिसम्बर 2012 से जस्टिस स्वतंत्र कुमार इसके अध्यक्ष हैं. एनजीटी का स्वतंत्र स्वरूप इसकी खासियत है. इसे नियमों-कानूनों का उल्लंघन करने वालों को सज़ा, उन पर जुर्माना लगाने और प्रभावित लोगों को मुआवजे का आदेश देने का अधिकार है. सज़ा का यह अधिकार काफी व्यापक है. सश्रम कारावास जैसी सख्त सज़ा भी सुना सकता है.

दुनिया का पहला बल्ब कितनी देर तक जला था?

हम जानते हैं कि पहला बल्ब टॉमस अल्वा एडीसन ने बनाया था. उन्होंने इस बल्ब में मोटे सूती धागे का फिलामेंट बनाया था, तो जलने के बाद कार्बन में बदल गया था. यह बल्ब 19 अक्तूबर, 1879 में जलना शुरू हुआ था. यह लगातार रोशनी देता रहा और कुल मिलाकर 48 घंटे और 40 मिनट तक इसने रोशनी दी और 21 अक्तूबर, 1879 को इसका फिलामेंट टूट गया और यह बुझ गया. बाद वाली तारीख इसके आविष्कार की तारीख मानी जाती है.

क्या बल्ब का आविष्कार वास्तव में एडीसन ने किया था?

वास्तव में एडीसन निर्विवाद रूप से इसके आविष्कारक नहीं हैं. इसके एक और दावेदार है ब्रिटिश वैज्ञानिक जोसफ स्वान. जोसफ स्वान ने गंधक के तेजाब में डूबे सूती धागे के फिलामेंट से एक बल्ब ब्रिटेन के न्यूकैसल में दिसम्बर 1878 में जलाकर दिखाया था. यानी एडीसन के बल्ब के करीब दस महीने पहले. एडीसन ने आरोप लगाया कि स्वान ने उनके विचार को चुराकर यह आविष्कार किया है. यह मामला अदालत में गया. मुकदमा काफी लम्बा चला. स्वान के पास लड़ने के लिए पैसा नहीं था. उन्होंने एडीसन से समझौता कर लिया और एडीसन एंड स्वान इलेक्ट्रिक कम्पनी बनी. यह कम्पनी एडीसन के पैसे से बनी थी और इसे एडीस्वान नाम से भी जाना जाता है।


प्रभात खबर अवसर में प्रकाशित

इंटरनेट का मालिक कौन है?

इंटरनेट से जुड़ी वैबसाइटों के मालिक अलग-अलग व्यक्ति, संस्थाएं, संगठन और सरकारें हैं. यह अनेक नेटवर्कों का महा-नेटवर्क है. करोड़ों या अरबों नेटवर्कों से मिलकर यह काम करता है. इसमें कई तरह की तकनीकें जुड़ी हैं, जिनका स्वामित्व अलग है. यह किसी केन्द्रीय व्यवस्था के अंतर्गत काम भी नहीं करता. फिर भी इन सबको जोड़ने की एक व्यवस्था है, जिसकी शुरूआत अमेरिका से और अमेरिकी सरकार के साधनों से हुई थी. इसकी शुरूआत अमेरिका के डिफेंस रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी (डारपा) ने देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों और रक्षा प्रयोगशालाओं में होने वाले रिसर्च की जानकारी को शेयर करने के लिए एक नेटवर्क के रूप में की थी.
शुरू में यह ई-मेल जैसी प्रणाली थी, जिसमें साइंटिस्ट एक-दूसरे से सवाल करते या उनके जवाब देते थे. इसे तब एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी नेटवर्क (अर्पानेट) कहा जाता था. इसके पहले सन 1961 में मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के ल्योनार्ड क्लाइनरॉक ने 1961 में प्रकाशित एक शोध पत्र में पैकेट स्विचिंग सिद्धांत का प्रतिपादन किया था, जिसके आधार पर इसकी अवधारणा 1964 में बनी और पहला संदेश 1969 में भेजा गया. धीरे-धीरे तकनीक विकसित होती गई. अब हर कम्पयूटर का एक आईपी एड्रेस होता है. वैबसाइट का डोमेन नेम होता है.
यह एड्रेस तय करने के लिए पहले इंटरनेट एसाइंड नम्बर्स अथॉरिटी (आईएएनए) बनाई गई , जिसे अमेरिकी सरकार ने बनाया. अब इसके ऊपर एक और संस्था बन गई है, जिसका नाम है इंटरनेट कॉरपोरेशन फॉर एसाइंड नेम एंड नम्बर्स (ICANN). इस प्रकार परोक्ष रूप से नेट पर अमेरिकी सरकार का नियंत्रण है, पर यह नॉन प्रॉफिट प्राइवेट संस्था है. वर्ल्ड वाइड वैब कंसोर्शियम है, कई प्रकार के सर्च इंजन हैं, वैब स्टोरेज है. यह तकनीक विकसित होती जा रही है और उसके मुताबिक संस्थाएं बन रहीं है. बैंकिंग, मार्केटिंग, शॉपिंग, मनोरंजन, विज्ञान-तकनीक वगैरह का नया संसार बन रहा है. दुनिया के देशों में सायबर कानून बन रहे हैं.
फास्टैग (FASTag) क्या है?
फास्टैग भारत का इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम है. इसका संचालन राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) करता है. इस सिस्टम की शुरुआत 4 नवम्बर 2014 में अहमदाबाद और मुम्बई के बीच स्वर्ण चतुर्भुज राजमार्ग पर हुई थी. जुलाई 2015 में चेन्नई-बेंगलुरु राजमार्ग के टोल प्लाजा इसके सहारे भुगतान को स्वीकार करने लगे. 23 नवम्बर 2016 तक देश के राजमार्गों के 366 में से 347 टोल प्लाजा फास्टैग भुगतान को स्वीकार कर रहे थे. अब इस साल दिसम्बर से देश के सभी टोल प्लाजा पर इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन शुरू करने की योजना है. 
सिक्योरिटी चेक के एक्स-रे स्कैनर
ये एक्स-रेमशीनें स्वास्थ्य की जाँच करने वाली एक्स-रे मशीनों से फर्क होती हैं. ये मशीनें कई तरह की चीजों की अलग-अलग पहचान के लिए बनाई जाती हैं, केवल हड्डियों की पहचान के लिए नहीं. सिद्धांततः सभी एक्स तरंगें एक तरह की नहीं होतीं. इन मशीनों में कई तरह के एनर्जी लेवल की तरंगे छोड़ी जाती हैं. जैविक वस्तुएं कम ऊर्जा वाली तरंगों को रोकती हैं, प्लास्टिक और धातु की वस्तुएं अलग-अलग तरह की तरंगों को रोकती हैं. सामान जब इस मशीन के भीतर से गुजरता है तो कई तरह के फिल्टरों के मार्फत उसकी एक्स-रे तस्वीर बनती है, जिससे पता लग जाता है कि भीतर क्या है?
प्याज को 4,000 साल पहले अफगानिस्तान, उज्बेकिस्तान और ताजिकिस्तान के इलाके में उगाया गया. भारत में इसका आगमन सम्भवतः मुसलमानों के आगमन के काफी पहले हो चुका था. प्राचीन भारतीय चिकित्सकों चरक, वाग्भट्ट और सुश्रुत ने इसके चिकित्सकीय गुणों का वर्णन किया है, पर इसे सम्मान की दृष्टि से नहीं देखा गया. इसका कारण शायद इसकी गंध थी. सन 629 से 645 के बीच भारत यात्रा पर आए चीनी यात्री ह्वेनत्सांग ने लिखा है कि भारत में कई जगह उन्होंने देखा कि प्याज खाने वाले को शहर में आने नहीं देते थे. तीखी गंध के कारण लम्बे समय तक अंग्रेजों को भी प्याज पसंद नहीं आया. सन 1350 में फैली प्लेग के दौरान देखा गया कि प्याज के व्यापारी बीमारी से बचे रहे. इसके बाद अंग्रेजों ने प्याज को स्वीकार किया.  
प्रभात खबर अवसर में प्रकाशित

Tuesday, November 21, 2017

जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी हिंसा

J&K Fatalities in Terrorist Violence 1988 - 2017

'
Incidents
Civilians
Security Force Personnel
Terrorists
Total
1988
390
29
1
1
31
1989
2154
79
13
0
92
1990
3905
862
132
183
1177
1991
3122
594
185
614
1393
1992
4971
859
177
873
1909
1993
4457
1023
216
1328
2567
1994
4484
1012
236
1651
2899
1995
4479
1161
297
1338
2796
1996
4224
1333
376
1194
2903
1997
3004
840
355
1177
2372
1998
2993
877
339
1045
2261
1999
2938
799
555
1184
2538
2000
2835
842
638
1808
3288
2001
3278
1067
590
2850
4507
2002
NA
839
469
1714
3022
2003
NA
658
338
1546
2542
2004
NA
534
325
951
1810
2005
NA
521
218
1000
1739
2006
NA
349
168
599
1116
2007
NA
164
121
492
777
2008
NA
69
90
382
541
2009
NA
55
78
242
375
2010
NA
36
69
270
375
2011
NA
34
30
119
183
2012
NA
16
17
84
117
2013
NA
20
61
100
181
2014
NA
32
51
110
193
2015
NA
20
41
113
174
2016
NA
14
88
165
267
2017
NA
54
71
185
310
Total*
47234
14792
6345
23318
44455


Data till Nov 12.2017
                                                  Fatalities in Terrorist Violence - 2017*

 
Civilians
Security Force Personnel
Terrorist
Total
January
3
0
13
16
February
3
9
11
23
March
4
1
11
16
April
5
5
8
18
May
10
10
17
37
June
3
15
30
48
July
10
1
27
38
August
5
14
25
44
September
5
4
18
27
October
5
8
18
31
November
1
4
7
12
Total
54
71
185
310
*Data till November 12, 2017
Source: South Asia TerrorismPortal 
http://www.satp.org/satporgtp/countries/india/states/jandk/data_sheets/annual_casualties.htm

Monday, November 20, 2017

‘ईज़ ऑफ डूइंग बिजनेस’ इंडेक्स क्या है?


यह इंडेक्स विश्व बैंक ने तैयार किया है, जिसमें दुनिया के अलग-अलग देशों में व्यापार करने की सुविधा के आधार पर उनकी रैंकिंग तय की जाती है. यानी जिन देशों के कायदे कानून सरल और सम्पत्ति के अधिकारों की रक्षा करते हों और लालफीताशाही के अड़ंगे कम हों ऐसे देशों की रैंकिंग बेहतर होती है. इसके लिए इसमें शामिल देशों के प्रशासन और न्याय-व्यवस्था से जुड़े तथ्य एकत्र किए जाते हैं. इस डेटा को कई तरीकों से पुष्ट भी किया जाता है. मोटे तौर पर एक देश की रैंकिंग 10 मामलों से जुड़ी जानकारी के आधार पर तय होती है. ये हैं:- 1.व्यापार शुरू करना-यानी प्रक्रिया, समय, लागत वगैरह, 2. निर्माण से जुड़े परमिट, 3. बिजली का कनेक्शन पाना, 4. सम्पत्ति का पंजीकरण, 5. ऋण प्राप्त करना, 6. निवेशकों की रक्षा, 7. टैक्स चुकाना, 8. सीमा-पार व्यापार, 9.ऋण समझौते, 10. दिवालिया होने की व्यवस्था.

कारोबार में सुगमता से जुड़ी रिपोर्ट सबसे पहले 2002 में क्वार्टरली जरनल ऑफ इकोनॉमिक्स में सायमन जैंकोव, राफेल ला पोर्ता, फ्लोरेंसियो लोपेज-द-साइलेंस और आंद्रेई श्लाइफर के एक शोधपत्र के रूप में छपी थी. इस पेपर में यह दिखाया गया था कि जिन देशों में नियमन जितना कड़ा है वहाँ उतना ही ज्यादा भ्रष्टाचार है. विश्व बैंक ने 2003 से इस रिपोर्ट का प्रकाशन शुरू किया.

धरती के भीतर क्या है?

आप कभी पृथ्वी में गड्ढा करने की कोशिश करें तो बहुत सफल नहीं होंगे. उपकरणों की मदद से भी दुनिया के वैज्ञानिक 8 किमी की गहराई तक के नमूने ले पाए हैं. दुनिया की सबसे गहरी खानें 3 किमी तक गहरी हैं. वैज्ञानिक जानकारी के अनुसार धरती की सतह से उसके केन्द्र तक की दूरी तकरीबन 6400 किमी है. इसमें चार परतें हैं। सबसे ऊपरी परत को क्रस्ट कहते हैं. यह करीब 15 किमी गहरी है. उसके बाद है मैंटल जो करीब ढाई हजार किमी तक है. इसमें भी चट्टानें हैं, पर जैसे-जैसे गहराई पर जाएंगे चट्टानें गर्म होती जाएंगी. इसके बाद है बाहरी कोर जो पिघले लावा की है. लावा मुख्य रूप से लोहा और निकल है. इसके बाद सबसे अंदर की कोर ठोस लोहे और निकल की है.

हमें पता कैसे चला कि भीतर क्या है?

धरती के भीतर की जानकारी पाने का सबसे अच्छा माध्यम हैं भूकम्प. धरती के कम्पन से वैज्ञानिकों ने काफी जानकारी हासिल की है. दुनिया में भूकम्प दर्ज करने वाले सेंसर कई जगह लगे हैं. ये सेंसर काफी दूर से भी जानकारी देते हैं. मसलन जापान में आए भूकम्प को अमेरिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और भारत में भी दर्ज किया जा सकता है. इन अलग-अलग जगहों पर दर्ज कम्पन कुछ और बातें भी बताते हैं. मसलन उन्हें एक जगह से दूसरी जगह तक जाने में कितना समय लगा और कम्पन किस तरह के हैं. इससे यह पता लगता है कि वे किस तरह के माध्यमों से गुजर कर आए हैं. कई जगह के डेटा को एक जगह रखने के बाद धरती के भीतर की संरचना का भी पता लगता है.

डेंगू शब्द कहाँ से आया?

इस शब्द का सही उच्चारण डेंगी है. माना जाता है कि स्वाहीली शब्द डिंगा स्पेनी के शब्द डेंगी से बना है. इस शब्द का अर्थ है "सावधान". यह भी संभव है कि स्पेनी शब्द स्वाहीली भाषा से आया हो. कुछ का मानना है कि "डेंगू" नाम वेस्ट इंडीज़ से आया है. वेस्ट इंडीज़ में, डेंगू से पीड़ित लोग डैंडी की तरह तनकर खड़े होने वाले और चलने वाले कहे जाते थे और इसी कारण से बीमारी को भी "डैंडी फीवर" कहा जाता था.

क्या जानवर आत्महत्या करते हैं?

ऐसी खबरें मिली हैं कि अंटार्कटिक में पेंग्विन बड़ी संख्या में किसी बर्फीली चोटी पर खड़े होकर बड़ी संख्या में सागर में कूदकर जान दे रही हैं. जानवर उस तरह आत्महत्या नहीं करते जिस तरह इंसान करते हैं. केवल वे अपनी मौत के वक्त खुद को इस स्थिति में ले आते हैं कि जान चली जाए. मसलन खरगोश खुले में आ जाते हैं ताकि कोई चील उन्हें उठा ले जाए.
http://epaper.prabhatkhabar.com/1424051/Awsar/Awsar#page/6/1

Monday, October 30, 2017

आदम और हव्वा की कहानी क्या है?


आदम और हव्वा की कहानी इब्राहीमी धर्मों यानी पैगंबरी मतों से जुड़ी है। इब्राहीमी धर्म वे हैं जो हज़रत इब्राहीम (इब्राहीम अथवा अब्राहम) के पूजित ईश्वर को मानते हैं। इनमें ईसाई, इस्लाम और यहूदी धर्म शामिल हैं। ईडन या ख़ुल्द इब्राहीमी धर्मों की मान्यताओं में वह जगह थी, जहाँ ईश्वर ने पहले पुरुष आदम और पहली स्त्री हव्वा या ईव की सृष्टि के बाद उन्हें रखा था।

बायबिल की कहानी के अनुसार ईश्वर ने ज़मीन से थोड़ी मिट्टी ली, फिर उससे इंसान का शरीर बनाया। उस शरीर में कोई कमी नहीं थी। तब परमेश्वर ने उसकी नाक में साँस फूँकी और आदम ज़िंदा हो गया। इसके बाद परमेश्वर ने आदम से कहा कि वह सब जानवरों के नाम रखे। जब आदम जानवरों के नाम रख रहा था, तो उसने देखा कि सब जानवरों के साथी थे, पर आदम का कोई साथी नहीं था। तब ईश्वर ने आदम की पसली की एक हड्डी निकाली और उससे एक औरत बनाई। वह औरत हव्वा थी।

इन धर्मों की कथाओं में ईडन सौंदर्य और शांति से भरे उद्यान के रूप में दर्शाया जाता है। ईडन के उद्यान में आदम और हव्वा निर्दोष स्थिति में आनंद से बच्चों की पूरी तरह नग्न रहते थे, क्योंकि उन्हें यौन संबंधों का कोई ज्ञान नहीं था और कोई शर्म नहीं होती थी। इसी उद्यान में एक वृक्ष था जिसे ‘ज्ञान का वृक्ष’ (ट्री ऑफ द नॉलेज ऑफ गुड एंड द ईवल) कहा जाता है। उसपर लगे फल का खाना ईश्वर ने आदम को वर्जित किया था। ईसाई मान्यता के अनुसार एक सर्प ने पहले हव्वा को उकसाया और फिर हव्वा ने आदम को ज्ञान का फल खाने के लिए उकसाया। आदम ने आज्ञा का उल्लंघन किया और फल खा लिया। इससे उसकी निष्कपटता ख़त्म हो गई और आदम और हव्वा को एक-दूसरे को देखकर शर्म महसूस होने लगी।

उन्होंने अंजीर के पत्तों के छोटे वस्त्र बनाकर अपने अंग ढकने का प्रयास किया। जब ईश्वर उनसे मिलने आए और यह देखा तो वह समझ गए कि आदम ने ज्ञान का फल खा लिया है। उन्होंने आदम और हव्वा को ईडन से निकाल दिया। ईसाई मान्यताओं में तब से मानव पापी अवस्था में संसार में भटक रहे हैं।

पुलिस कंट्रोल रूम का नम्बर 100 क्यों होता है?
भारत में पुलिस कंट्रोल रूम का नम्बर 100 होता है। ऐसा नम्बर जो आसानी से याद रहे। यूरोप के कई देशों में यह 112 है। इंग्लैंड में 999 और अमेरिका तथा कनाडा में 911। बांग्लादेश में भी 999 है। जापान, चीन और इंडोनेशिया में 110, पाकिस्तान में 15, श्रीलंका में 119।

मंत्रिमंडल को कैबिनेट क्यों कहते हैं?


कैबिनेट एक अनौपचारिक व्यवस्था है, जिसने औपचारिक रूप धारण कर लिया है। संविधान में मंत्रिपरिषद या कौंसिल ऑफ मिनिस्टर्स की व्यवस्था है। कैबिनेट शब्द हमने ब्रिटिश संसदीय प्रणाली से लिया है, जिसमें कुछ वरिष्ठ मंत्री इसके सदस्य होते हैं, जो प्रधानमंत्री के साथ मिलकर नीतिगत निर्णय करते हैं। पुराने जमाने में ये सदस्य जिस कक्ष में बैठकर मंत्रणा करते थे, उसे केबिन कहा जाता था. उससे ही कैबिनेट शब्द बना।

आधी रात में सूरज किस देश में उगता है?


उत्तरी ध्रुव के काफी करीब है नॉर्वे। इस इलाके में गर्मियों में रात के बारह बजे के बाद तक सूरज चमकता है। रातें कुछ घंटे की होती हैं, उस दौरान भी सूरज क्षितिज के करीब होता है इसलिए रातें अंधियारी नहीं होतीं। उसे अर्धरात्रि के सूर्य वाला देश कहते हैं। नॉर्वे के अलावा यूरोप से बहुत से देशों में रात देर से होती है।

http://epaper.patrika.com/1410559/Me-Next/Me-Next#page/2/1